Google ads

ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga | How to end of the word

ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga | How to end of the world


ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga | How to end of the word
ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga

End of the world : हमारे ब्रह्मांड का अंत कब होगा यह दुनिया का सबसे बड़ा सवाल है, आप सभी ज़रुर जानना चाहते होंगे कि आने वाले समय में हमारे इस ब्रह्मांड का क्या होगा, तो दोस्तों चलिए आज हम चलते हैं कुछ 100 साल आगे हजार साल आगे करोड़ों अरबों साल आगे और जानते हैं हमारे ब्रह्मांड का भविष्य .

आज से 100 करोड़ साल बाद
आज हम जिस दुनिया में जी रहे हैं वह अब एडवांस हो चुका है, सड़कें टॉयलेट और गटर जैसे कामों में इंसानों की जगह पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस अपना जगह ले चुका है, दुनिया के सारे गांव बड़े-बड़े शहर में बदल चुका है, और प्रदूषण के चलते सूरज 21वीं सदी में जितना गर्म था उसे कई गुना ज्यादा चमकीला हो चुका है, जिसके चलते हैं धरती की टेंपरेचर 50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच चुका है, इंसानों की लापरवाही और ज़रूरतों के चलते धरती पर इतना पोलूशन फैल गया है कि बाहर मौजूद ओजन परत अब नहीं है .

ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga | How to end of the word
How to end of the word
200 करोड़ साल बाद
अब सौ करोड़ साल और गुज़र चुके हैं और धरती का तापमान और भी बढ़ चुका है, इसके वजह से सारे नदियों और समुद्र ऑलमोस्ट सूख चुके हैं, और इन सबके चलते हैं जिस धरती पर कभी इंसान रहता था अब वहां उनकी कुछ यादें रह गई है, कुछ टूटी-फूटी इमारतें गाड़ियाँ वग़ैरा-वग़ैरा, अब सिर्फ कुछ अजीब यहां रह रहे हैं और वह भी धीरे-धीरे मर रहे हैं .

ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga


ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga | How to end of the word
How to end of the word

कुछ नसीब वाले अमीर इंसान मंगल ग्रह पर अपना घर बना लिए हैं, क्योंकि इस वक्त मंगल ही एक मात्र ऐसा ग्रह है जहां टेंपरेचर कम है, लेकिन कुछ हजार साल के अंदर सूरज का टेंपरेचर इतना बढ़ गया है कि मंगल भी रहने लायक नहीं रहा .

और परिणाम स्वरूप इंसान अब कहीं जा नहीं सकता कुछ भी कर नहीं सकता अब उसका विनाश तय है, तो इंसान नामक प्राणी जो कभी ब्रह्मांड में मौजूद था और वो एक्ज़िट नहीं करता, उसका नामो निशान मिट चुका है .


लगभग 400 करोड़ साल बाद
हमारा मिल्क-वै पड़ोसी एंड्रोमेडा हमारे मिल्क वै को अपनी तरफ खींच लिया है, जब इंसान धरती पर मौजूद था तब यह एंड्रोमेडा गैलेक्सी हमारे मिल्क वै से लगभग 250 करोड़ प्रकाश वर्ष दूर था, लेकिन अब यह हमारे गैलेक्सी से कोलाइड करने जा रहा है, और कुछ ही सालों में यह दोनों गैलेक्सी एक दूसरे से टकरा चुके हैं और दोनों मिलकर एक बड़ा गैलेक्सी वन चुके हैं .

एक ऐसा गैलेक्सी जिसका कोई नाम नहीं है, क्योंकि इंसान ही हो ऐसा प्राणी था जो हर किसी चीज को एक नाम देता था, लेकिन अब जो ब्रह्मांड में इंसान नहीं है तो अब ब्रह्मांड में मौजूद हर वह चीज जो बनाए हैं या फिर बन रहे हैं उनका कोई नाम नहीं है .

ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga | How to end of the word
How to end of the word
500 करोड़ साल बाद
मिल्क-वै और एंड्रोमेडा के टकराने से गैलेक्सी 1 हो चुके हैं, मगर हमारा सोलर सिस्टम अब भी मौजूद है, लेकिन यह सब भी धीरे-धीरे खत्म होने वाले हैं, 21वी सदी में सूरज कितना बड़ा था आज वह उससे 200 गुना बढ़ चुका है और आगे बढ़ता जा रहा है, धरती से सूरज कुछ इस तरह नजर आ रहा है, लेकिन इसे देखने वाला कोई नहीं है, एक बहुत बड़ा सूरज जो धीरे-धीरे सारे ग्रहों को निगलने की तैयारी में है .

सबसे पहले मरक्यूरी वीनस और अब धरती भी खत्म हो चुका है, जिसमें कभी इंसान रहता था जहां कभी जीवन एक्ज़िट करता था अब नहीं रहा, इसके बाद लगातार हर एक ग्रह यम सनी जुपिटर सारे के सारे सूरज के चंगुल में आ चुके हैं, और अब ऐसे स्थिति बन चुका है जहां सूरज के अलावा ब्रह्मांड में कोई और ग्रह मौजूद नहीं है .

ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga | How to end of the word
How to end of the word
1.5,000 करोड़ साल बाद
अब पूरा सोलर सिस्टम खत्म हो चुका है और ग्रहों के टूटे हुए टुकड़े ब्रह्मांड में दे रहे हैं और सूरज की रोशनी धीरे-धीरे खत्म हो रहा है यानी कि सूरज अब मर रहा है .

ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga

10,000 करोड़ साल बाद
ब्रह्मांड में जहां पर मिल्की वे गैलेक्सी है मतलब एंड्रोमेडा गैलेक्सी है जो बहुत पहले एक हो चुके थे, उनके अंदर करीब 100 आकाशगंगा ए हैं और इसे ही वर्ग सुपरक्लस्टर कहते हैं, मतलब इससे पहले 21वी सदी में सारे आकाशगंगा अपने अपने जगह पर रहते थे, लेकिन अब वह अपने गुरुत्वाकर्षण बल के वजह से आपस में इकट्ठा हो रहे हैं, और एक बड़ा गैलेक्सी बना रहे हैं .



एक लाख करोड़ साल बाद
जैसा कि मैंने बताया कि अलग-अलग सुपर गैलेक्सी बन रहे हैं इस बात को हुए 900 अरब साल हो चुके हैं, और अब वह सब मर चुके हैं क्योंकि गैलेक्सी बनने के लिए तारों की जरूरत होती है, और तारों के बनने के लिए डस्ट क्लाउड की जरूरत होती है, लेकिन अब ब्रह्मांड में कहीं भी डस्ट क्लाउड नहीं है .

जब इंसान रहता था तब तो यह आसानी से हर जगह मिल जाता था, लेकिन अब जो कि इंसान या कोई ग्रहण मौजूद नहीं है इसके वजह से तारे बनने बंद हो गए हैं, और गैलेक्सी के अंदर जितने भी तारे मौजूद हैं वह सारे के सारे धीरे-धीरे मर रहे हैं .

Kaliyuga ka ant

दो लाख करोड़ साल बाद
आपको पता है कि यह ब्रह्मांड हर सेकंड फैलता है, लेकिन अब इसकी रफ्तार इतना ज्यादा हो चुका है कि अब ब्रह्मांड के आकार का कोई कल्पना नहीं किया जा सकता, सारे गैलेक्सी खत्म हो चुके हैं बचा है तो कुछ टूटे हुए ग्रहों के टुकड़े, और यह ब्रह्मांड के फैलने की वजह से एक दूसरे से दूर जा रहे हैं, मतलब इन की दूरी बढ़ रहा है .

20 लाख करोड़ साल बाद
इस मरे हुए ब्रह्मांड में दूसरे छोर पर अब भी 10 या 15 तारे जिंदा है, और अंतरिक्ष के भयंकर राक्षस ब्लैक होल लाखों की तादाद में तैर रहे हैं, और बचे हुए ग्रहों के टुकड़ों को अपना शिकार बना रहे हैं .

ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga | How to end of the word
How to end of the word
एक करोड़ करोड़ साल बाद
ब्रह्मांड के दूसरे छोर में जो तारे थे वह अब खत्म हो चुके हैं, और ब्लैक होल अब बचे हुए चीजों को खा रहे हैं, सारी चीजें ब्लैक हॉल में समा रहे हैं, आखिर में अब ब्रह्मांड में कुछ नहीं बचा है, शिवाय ब्लैक होल कि अब ब्रह्मांड में कुछ भी एडजस्ट नहीं करता है, चारों तरफ यह दा-नव अपना मुंह खोले बैठे हुए हैं .

ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga

अरबों साल बाद
इस ब्रह्मांड में कुछ भी नहीं बचा दूर दूर तक कुछ नजर नहीं आ रहा, लेकिन कुछ चीजें अभी बाकी हैं, अगर ब्रह्मांड को जूम करके देखो तो यहां पर अलग-अलग परमाणु अलग अलग हो करते रहे हैं, बची कुची जो भी ग्रहों के टुकड़े थे जिन्हें ब्लैक होल अपने दूरी के वजह से निकल नहीं पाए हैं वह अभी तैरते हुए दिखाई दे रहे हैं .

लेकिन जो कि अब ब्रह्मांड में कोई भी ग्रह या गैलेक्सी नहीं है इसलिए यह ब्लैक होल अपने ग्रैविटी के वजह से एक दूसरे के करीब आ रहे हैं, और सारे ब्लैक होल मिलकर एक सुपर ब्लैक होल और बना रहे हैं, एक ऐसा ब्लैक होल जिसके प्रभाव से कोई भी बच नहीं सकता, जिसके चलते वह जो बचे हुए ग्रहों के टुकड़े थे अब वह नहीं रहे .

ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga | How to end of the word
How to end of the word

ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga

काईन अरब साल बाद
अब यह ब्रह्मांड बढ़ते बढ़ते इतना बढ़ चुका है कि उस उससे गिनती करना आसान नहीं है, और इसके वजह से वह सुपर ब्लैक होल भी हॉकिंग रेडिएशन के चलते इबा पैरट होना शुरू हो गए हैं, और कुछ साल के अंदर ही वह बड़ा सा ब्लैक होल भी ग़ायब हो चुका है, और अब वह समय आ चुका है जहां प्रोटॉन न्यूट्रॉन इलेक्ट्रॉन नहीं है, ना कोई ब्लैक होल ना कोई ग्रह ना कोई गैलेक्सी ना कोई तारे इस ब्रह्मांड में मौजूद है .
(ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga)

अब इस ब्रह्मांड में कुछ भी एक्ज़िट नहीं करता, यहां तक कि कुछ भी यह भी अब नहीं है ऐप्सोल्युटली Nothing, लेकिन एक चीज है और वह है ब्रह्मांड जिसका कोई अंत नहीं है जो अपने आप में अमर है, जिसे मारा नहीं जा सकता, और वह दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है, और शायद यही वह भगवान है इसका कोई अंत नहीं है,जो हर जगह मौजूद है .




लेकिन आपको टेंशन लेने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि यह सब होते होते अरबों खरबों साल लगेंगे, और आप यह सब नहीं देख पाएंगे इसलिए एक लंबा सांस लीजिए और अपने दिल को हल्का कैसे .

जाते जाते हैं कमेंट करके बताइए कि आपको यह आर्टिकल कैसा लगा, हमसे जुड़ने के लिए धन्यवाद आपका दिन शुभ हो .

How to end of the word

ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga | How to end of the word ब्रह्मांड का अंत कैसे होगा | Hamare brahmand ka ant kaise hoga | How to end of the word Reviewed by Science Fiction on July 14, 2019 Rating: 5

No comments:

Google

Powered by Blogger.