Google ads

बिग बैंग थ्योरी विज्ञान क्या है?, What is Big Bang Theory science?, index of big bang theory kya hai

बिग बैंग थ्योरी विज्ञान क्या है? What is Big Bang Theory science? index of big bang theory kya hai


What is Big Bang Theory science?
What is Big Bang Theory science?


कहते हैं ब्रह्मांड शुरू होने से पहले अंधकार मौजूद था, और इसी अंधेरे से जन्म लिया ओम और ओम से जन्म लिया नाद और नाद से वेद और फिर यह पूरी सृष्टि, ऐसा धार्मिक ग्रंथों में लिखा गया है, लेकिन हम सब इंसान हैं और हम सब इस पृथ्वी से ही जन्मे हैं इसमें कोई शक नहीं है, और हमारा फितरत है कि जो दिखता है उस पर ही यकीन करते हैं, इसलिए विज्ञान पर इंसान ज्यादा भरोसा करता है, और विज्ञान यह कहता है हमारा पूरा ब्रह्मांड जहां तक भी हम देख सकते हैं वह सभी एक भयानक विस्फोट से बना है, जिसे बिग बैंग थ्योरी का जाता है, अगर यह सच है तो फिर सवाल उठता है कि big-bang-theory आखिर क्या है, तो चलिए दोस्तों आज इसके बारे में खुलासा करते हैं .

big bang theory kya hai
big bang theory kya hai


बिग बैंग थ्योरी के अनुसार फोटो में मौजूद यह बिंदु पूरी कायनात का जन्म दाता है, कई सालों से मौजूद इस ऊर्जा के स्रोत में अचानक एक भयंकर विस्फोट होता है, और यह विस्फोट इतना तेज था 1 सेकेंड के अंदर ही यह फेल कर एक आकाशगंगा से ही बड़ा हो गया, और एक परमाणु से भी छोटी ऊर्जा के स्रोत का कण ब्लैक होल तारे अनगिनत ग्रह में बदल गया, इसके अलावा इस ब्रह्मांड में जितने भी तत्व मौजूद हैं वह सब इसी प्रकाश बिंदु की ही देन है .

Big-bang-theory-kya-hai


इस विस्फोट के बाद जो पहला परमाणु बना वह था हाइड्रोजन, धीरे-धीरे हाइड्रोजन के छोटे-छोटे कणों मैं मौजूद ग्रेविटेशनल पुल अपना काम करना शुरु हो गया, मतलब इन कणों को इनके ग्रेविटेशनल पुल लगातार दबाव डाल रहा था, और यह दबाव बढ़ते बढ़ते लगभग 300 करोड़ साल बाद तापमान 3,00,000 डिग्री तक पहुंच गया, और इस प्रक्रिया से एक नया तत्व जन्म लिया जिसका नाम था हिलियम .

और वह हिलियम ही है जिसके वजह से पूरे ब्रह्मांड रोशनी से भर गया, और इस रोशनी से जन्म लिए तारे, जरूरी सूचना > इसके पहले समय को डार्क एज कहा जाता था, क्योंकि इससे पहले तारे या किसी और जगह पर कोई भी रोशनी नहीं था, लेकिन अब समय बीत चुका है और ब्रह्मांड में रोशनी मौजूद है, मगर ग्रहों का निर्माण अभी बाकी है .


Read this also

  1. एलियन प्लेनेट से धरती कैसा दिखेगा | Alien planet se Dharti kaisa dikhega

  2. चाय पीने से असली में क्या खतरा है | What is the real danger of drinking tea?

  3. magical power's Inside all of us, know how to behave here.

ब्रह्मांड में तारे मौजूद थे और इन्हीं तारों में एक रासायनिक प्रक्रिया चल रहा था, दरअसल यह तारे हाइड्रोजन और हीलियम को इस्तेमाल करके और कई तत्व बना सकते थे, जैसे हाइड्रोजेनसे से हिलियम और हीलियम से लिथियम और लिथियम से कार्बन नाइट्रोजन ऑक्सीजन भी धीरे-धीरे बनने लगे, फिर एक दिन इन तारों में दबाव के वजह से विस्फोट शुरू हो गया, जरूरी सूचना > इसे सुपरनोवा विस्फोट कहा जाता है, और यह विस्फोट लगातार आठ करोड़ साल तक चलती रही .

सुपरनोवा विस्फोट के बाद पुराने तारे खत्म हो चुके थे और नए तारे अपने साथ कई तत्वों को लिए ब्रह्मांड में घूम रहे थे, उसके बाद 460 करोड़ साल बीत गए और ब्रह्मांड में एक नए तारे का जन्म हुआ जिसका नाम है सूरज, सूरज का ग्रेविटेशनल पुल इतना मजबूत था कि उसके आसपास मौजूद जितने भी धूल गैस थे वह सब उसके चक्कर काटने लगे, और इन्हीं गैस और धूल से बना प्लानेट और हमारी पृथ्वी सूरज के तीसरे नंबर पर बन रहा था .

big bang theory kya hai
big bang theory kya hai

Big-bang-theory-kya-hai


पृथ्वी धीरे-धीरे बन रहा था और उस वक्त वह एक लावा का गोला जैसा था, मतलब उस वक्त पृथ्वी पर कोई जीवन नहीं था, पृथ्वी अपना आकार ले रहा था और इसका ग्रेविटेशनल पुल के वजह से लोहा निकल जिसे धातु पृथ्वी के सेंटर में इकट्ठा होने लगे थे, यह सब मिलकर गुरुत्वाकर्षण बल को तैयार कर रहे थे, और आज यही वह गुरुत्वाकर्षण बल है जो हमें सूरत से आने वाले अल्ट्रावायलेट किरणों से बचाता है .

ग्रैविटी तो पृथ्वी पर मौजूद था मगर पृथ्वी का स्पीड इतना तेज था कि 1 दिन सिर्फ 7 घंटे का हुआ करता था, मतलब हमारा पृथ्वी अभी पूरा नहीं था, सालों बीत गए फिर एक दिन एक मंगल ग्रह जितना बड़ा आकार का एस्ट्रॉयड हमारे पृथ्वी से टकरा गया, जिसके वजह से पृथ्वी का कुछ अंश अंतरिक्ष में चला गया, और उससे जन्म लिया चांद, चांद के आने के वजह से पृथ्वी थोड़ा शांत हुआ और इसकी गति धीमी हो गई थी, और एस्ट्रॉयड के टकराने की वजह से पृथ्वी पर एक और चीज जन्म लिया था जिसे हम मौसम कहते हैं .

big bang theory kya hai
big bang theory kya hai


इतना सब कुछ होने के बाद भी पृथ्वी पर जीवन संभव नहीं था, क्योंकि पृथ्वी के सतह गरम लावा का नदी था, और आसमान में कई सारे गैसेस इकट्ठा हो रहे थे, फिर एक दिन उन ग्यास के वजह से बारिश शुरू होता है, और यह बारिश लगातार करोड़ों सालों तक होता ही रहता है, जिसके वजह से पृथ्वी धीरे-धीरे ठंडा होने लगा और साथ ही कहीं नदी और तालाब भी बन चुके थे इसके अलावा पृथ्वी पर समुंदर भी बन चुका था .

इतने सालों में चांद के ग्रेविटी के वजह से पृथ्वी पर एक दिन 24 घंटे का होने लगा था, साथ ही महासागरों में जीवन के संकेत मिलने लगे थे, समंदर में मौजूद हाइड्रोजन ऑक्सीजन इन सब के वजह से धीरे-धीरे कुछ सूक्ष्म जीवों ने जन्म लेना शुरू किया, समय के साथ कुछ सूक्ष्म जीवों ने ऑक्सीजन को ग्रहण करना शुरू किया, अब यह प्राणी धीरे-धीरे इतना एडवांस हो चुके थे कि सूरज के किरणों से भी ऑक्सीजन ग्रहण कर सकते थे, और इनकी विकास जारी था .

बिग बैंग थ्योरी विज्ञान क्या है

ऑक्सीजन के वजह से पृथ्वी पर जीवन और भी आसान हो गया, और समुद्र में एक प्राणी जन्म लिया जिसका कोई हड्डी ही नहीं था, लोहा जैसे तत्वों के वजह से जगह-जगह पहाड़ चट्टानें बनने लगे, आसमान नीला दिखने लगा और ओज़ोन लेयर जीवन को अल्ट्रावायलेट किरणों से बचाने लगा, अब पृथ्वी पर जीवन काफी तेजी से बढ़ रहा था साथ ही पेड़ पौधे भी पृथ्वी पर धीरे धीरे उगने लगे .

big bang theory kya hai
www.scientistsdaily.com


आज से करीब 40 करोड़ साल पहले पृथ्वी के सतह पर समुद्र के जी पहली बार अपना कदम रखा, और अब पृथ्वी का ऑक्सीजन लेवल 13% से भी ज्यादा हो चुका था, फिर एक बार पृथ्वी पर एक भयंकर ज्वालामुखी विस्फोट हुआ, जिसके वजह से जीवन के 70% तक प्राणी मारे गए, और ऐसा विस्फोट अब तक 5 बार हो चुका है और कहीं प्राणी लूप भी हो चुके हैं, जिनमें से एक है डायनासोर .

What is Big Bang Theory science?


जब डायनासोर पृथ्वी पर मौजूद थे तब एक एस्ट्रॉयड जो कि 10 किलोमीटर का था वह धरती से टकरा जाता है, और परिणाम स्वरूप पृथ्वी पर 25 किलोग्राम से ज्यादा वजन वाले प्राणी मारे जाते हैं, साथ ही डायनासोरों का दौर खत्म हो जाता है, और 100 करोड़ साल पहले पृथ्वी पर चट्टानें अलग अलग होने लगते हैं, जिसके वजह से हिमालय जैसा पहाड़ बनना शुरू होता है, और पृथ्वी पर बड़े-बड़े जंगल भी बनने लगते हैं, साथ ही हमारे पूर्वज बंदर धीरे-धीरे विकसित होने लगता है, इन प्राणि-यों ने दो पैरों से चलना सीख लिया है, अपने दो पैरों पर चलने की वजह से उनके दो हाथ खाली रहते हैं इसलिए वह दो हाथ कोई और काम करने के लिए सक्षम है, जैसे की शिकार करना आग लगाना घर बनाना या फिर खुद की सुरक्षा करना, और यही वह प्राणी थे जो विकसित होकर आज इंसान के रूप में धरती पर राज करते हैं, और अगले कई सालों तक करते रहेंगे .
बिग बैंग थ्योरी विज्ञान क्या है?, What is Big Bang Theory science?, index of big bang theory kya hai बिग बैंग थ्योरी विज्ञान क्या है?, What is Big Bang Theory science?, index of big bang theory kya hai Reviewed by Science Fiction on June 30, 2019 Rating: 5

No comments:

Google

Powered by Blogger.