Google ads

कैसा था इंसान 10000 साल पहले, और कैसे थे हमारे पूर्वज, कैसे बना हमारे धरती, बिग बैंग थ्योरी




नमस्कार दोस्तों, गुजरते समय के साथ इंसान भी बदल रहा है, बह ते लहरों के जैसा इंसान भी आगे ही चलता जा रहा है, अगर पीछे की ओर देखें तो एक सवाल आता है कि आज जो इंसान यहां तक सफर कर चुका है उस सफर का शुरुआत कहां से हुआ था, इंसानों का जन्म कब से हुआ था, क्या इंसान पहले से ही इतना बुद्धिमान था जितना कि आज है, तो आई है दोस्तों आज इस ब्लॉग पर जानते हैं कि इंसान की इतिहास के बारे में, यानी हमारे पूर्वजों के बारे में .



अगर विज्ञान की राय देखें तो वह यह कहता है, कि कहीं हजार साल पहले हमारे सौर-मंडल में एक विस्फोट हुआ था जिसे बिग बैंग थ्योरी खा जाता है, जिसके मुताबिक कई साल पहले एक बड़ा एस्ट्रॉयड हमारे धरती से टकराया था, एस्ट्रॉयड के टकराने से हमारे धरती पर भूकंप पैदा हुआ जिसके वजह से पूरी धरती गर्मी से फट गया, और यह सब उस वक्त हुआ था जब डायनासोरों का धरती पर राज था .


बिग बैंग थ्योरी के बाद डायनासोरों का राज खत्म हो गया, और धरती पूरी तरह से वीरान हो गए, दूर से देखने पर हमारे पृथ्वी एक आग के गोले जैसा लग रहा था, उसके बाद धीरे-धीरे धरती पर गर्मी के वजह से आसमान में धुआ इकट्ठा हुए और वह बारिश का रूप लेने लगी, कुछ दिन बाद बारिश ज़मीन पर गिरी और समुंदर का रूप लिया, समुंदर बनने के बाद उसमें छोटे-छोटे सूक्ष्म जीव वास करने लगे, और वह समुंदर ही अपना ऑक्सीजन ग्रहण करते थे .




पानी में रहने वाले जीव धीरे-धीरे विकसित होने लगे, अब वह जीव सूरज की किरणों से भी अपना ऑक्सीजन ग्रहण कर सकते थे, उसके बाद इन प्राणि-यों में अवुलोशन शुरू हुआ, और धरती में ज़मीन पर पहला कदम रखने वाला प्राणी एक मगरमच्छ था, जो उन सूक्ष्म प्राणि-यों से विकसित हुआ था जिनके अंदर कभी रीढ़ की हड्डी नहीं हुआ करती थी .



ऑक्सीजन के वजह से ज़मीन पर पेड़ पौधे उगने लगे, देखते देखते धरती ग्रीन-री से भर गया, और साथ ही जन्म लिया बन-मानुस यानी चिम्पांज़ी, पहले बन मानुस एक जानवर की तरह ही जी रहा था, फिर धीरे धीरे नए नए तकनीक जैसे शिकार करना आग लगाना यह सब सीखने लगा, उस वक्त वन-मानुष ही एकमात्र ऐसा प्राणी था जिसके पास एक बड़ा सर था, और वह जीव काफी बुद्धिमान भी था .


अब वन-मानुष एहसास प्यार ज़ज़्बा यह सब महसूस कर पा रहा था, स्त्री और पुरुषों में फर्क देख पा रहा था, और अब वह समय आ चुका था जब हमारे पूर्वज यानि बन-मनुष घर में रह रहा था, जो कि अब वन-मानुष घर में रह रहा था इसलिए वह इंसान बन चुका था, और अब उससे कहीं चीजों की जरूरत पड़ रही थी इसलिए इंसान ने नए नए मशीन और टेक्नोलॉजी को जन्म दिया, जैसे पहले हाथ गाड़ी फिर घोड़ा गाड़ी और आज तेल से चलने वाली गाड़ियाँ तक पहुंच चुका है .



जहां विज्ञान यह बताता है वही पुराण कुछ और ही कहता है, पुराण के अनुसार पहले हमारे सौर-मंडल था ही नहीं, पूरा अंतरिक्ष विरान था और फिर 1 दिन भगवान को सृष्टि की रचना का ख्याल आया, और फिर उन्होंने शुरुआत ओम से किया, पहले एक बिंदु बनाया उसके बाद उस बिंदु से ओम जन्म हुआ और उनके वजह से नाद जन्म हुआ नाद के वजह से और सौर-मंडल पैदा हुआ, कहीं पौराणिक ग्रंथों में तो यह भी उल्लेख है कि धरती पर पहला मनुष्य पुरुष ही था, इसमें कितना सच्चाई है यह आज तक कोई नहीं जान सका, कुछ लोग हैं जो विज्ञान के साथ चलते हैं और कुछ पुराण को ही सच्चा मानते हैं, ऐसा भी हो सकता है कि दोनों ही सच हो लेकिन यह तय करना बहुत मुश्किल है, उम्मीद है आपको आर्टिकल पसंद आया होगा हमसे जुड़े रहने के लिए धन्यवाद आपका दिन शुभ हो .


कैसा था इंसान 10000 साल पहले, और कैसे थे हमारे पूर्वज, कैसे बना हमारे धरती, बिग बैंग थ्योरी कैसा था इंसान 10000 साल पहले, और कैसे थे हमारे पूर्वज, कैसे बना हमारे धरती, बिग बैंग थ्योरी Reviewed by Science Fiction on June 27, 2019 Rating: 5

No comments:

Google

Powered by Blogger.