Google ads

आइए जानते हैं किन्नरों के बारे में कुछ रोचक बातें | Fact's about eunuch

आइए जानते हैं किन्नरों के बारे में कुछ रोचक बातें


प्रकृति में नर और नारी के अलावा एक और भी प्रजाति है जो पूरी तरह से न नर है न ही नारी, यह समुदाय समाज से अलग ही रहता है, इसीलिए हर कोई इनके बारे में जानने की रूचि रखता है, जिनको हम किन्नर, हिजड़े या फिर ट्रांस-जेंडर के नाम से बुलाते है, तो आइए आज इस पत्रिका में जानते है किन्नरों के बारे में .



जोतिसि के अनुसार वीर्य के अधिकता से पुरुष उत्पन्न होते है, और राज के अधिकता से स्त्री यानि की कन्या उत्पन्न होती है, वीर्य और राज सामान हो तो किन्नर उत्पन्न होते है, पुराने ज़माने में भी किन्नर राजा महाराजाओं के पास नाच गाना करके अपना गुजरा करते थे .

किन्नरों को दी हुई दुआएँ किसी भी व्यक्ति का बुरे समय को दूर कर सकती है, अगर धन लाभ चाहते हैं तो किन्नर से 1 का सिक्का लेकर अपने पास रख ले आपका बुरा वक्त जल्दी टल जाएगा, एक मान्यता है कि ब्रह्मा जी की छत्र-छाया से किन्नरों की उत्पत्ति हुई है, पुरानी मान्यताओं के अनुसार श्रीखंडी को किन्नर ही माना गया है .



देश में किन्नरों की 4 प्रजाति है किन्नरों की समाज में गुरु शिष्य जैसी प्राचीन परंपरा आज भी यथत बनी हुई है, किन्नर समुदाय के सदस्य को मंगल-मुखी माना जाता है, यह सिर्फ मांगलिक कार्यों में ही हिस्सा लेते हैं, देश में हर साल किन्नरों की संख्या 40 से 50 हजार की वृद्धि होती है, इन तमाम किन्नरों से 90 प्रतिशत किन्नर ऐसे होते हैं जिन्हें बनाया जाता है .

किन्नरों के समाज में डरावना बात यह है कि यह समाज ऐसे लड़कों की तलाश में रहता है जो खूबसूरत और जिसकी चाल ढाल थोड़ी कोमल होती है, जो ऊंचा उठने की ख़्वाब देखता हो, यह समाज उस व्यक्ति से नज़दीक बढ़ाता है फिर समय आते हैं उसे वधिया कर देता है, मतलब उसके शरीर के उस अंग को काट देना जिससे वह कभी लड़का नहीं बन सकता .



कहा जाता है कि किन्नर समुदाय में विवाह भी किया जाता है, किन्नर अपने आराध्य देव अरावन से साल में एक बार विवाह करते हैं और यह विवाह मात्र 1 दिन के लिए ही होता है, अगले दिन अरावन देवता की मौत हो जाता है, और साथ ही वैवाहिक जीवन समाप्त हो जाता है .

किन्नर समाज की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि मृत्यु के बाद अंतिम संस्कार बहुत ही गुप्त तरीके से किया जाता है, किन्नर की जब मौत होती है तो उसे किसी गैर किन्नर को नहीं दिखाया जाता है, क्योंकि यह मानना है कि अगर मरने वाले व्यक्ति की लाश को कोई दूसरा किन्नर देख ले तो अगले जन्म में भी वह किन्नर पैदा होता है, किन्नर मृत शरीर को जलाते नहीं दफनाते हैं और उन की शव यात्रा रात को ही निकली जाती है .
आइए जानते हैं किन्नरों के बारे में कुछ रोचक बातें | Fact's about eunuch आइए जानते हैं किन्नरों के बारे में कुछ रोचक बातें | Fact's about eunuch Reviewed by Science Fiction on May 11, 2019 Rating: 5

No comments:

Google

Powered by Blogger.